बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या होते हैं?

बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या होते हैं?

नमस्कार दोस्तो, आपने अपने जीवन के अंतर अक्सर बगलामुखी मंत्र के बारे में तो जरूर सुना होगा। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या क्या होते हैं। यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या क्या होते हैं , हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

बगलामुखी मंत्र प्रयोग क्या है?

भारतीय सनातन धर्म ज्ञान-विज्ञान, तंत्र-मंत्र, भक्ति-शक्ति आदि से परिपूर्ण है। सनातन धर्म या हिंदू शास्त्रों में दस महाविद्याओं का उल्लेख मिलता है। ये दस महाविद्या नाम से ही स्पष्ट है कि इनका अवतरण किसी विशेष प्रयोजन के लिए हुआ है।

हालांकि ये दस महाविद्याएं आदिशक्ति महाकाली दुर्गा का रूप हैं, लेकिन इन दस महाविद्याओं का काम बहुत खास है। इन दस महाविद्याओं में एक बगलामुखी भी है। बगलामुखी महाविद्या महाविद्या का बहुत ही अद्भुत और तांत्रिक रूप है।

वैसे ये सभी दस महाविद्या तांत्रिक रूप में अधिक प्रचलित हैं। अपने शत्रु को खत्म करने के लिए, शत्रु की वाणी को रोकने के लिए, शत्रु को मारने के लिए बगलामुखी मंत्र का प्रयोग किया जाता है जो वास्तव में बहुत जल्द अपना प्रत्यक्ष प्रभाव छोड़ देता है।

बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या होते हैं? | 

bagalamukhi mantra in hindi

जैसा कि दोस्तों आप सभी लोगों ने अपने जीवन के अंतर्गत बगलामुखी मंत्र के बारे में तो जरूर सुना हुआ होगा। यदि दोस्तों आपको इस विषय के बारे में पता नहीं है कि बगलामुखी मंत्र के क्या-क्या नुकसान होते हैं, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि बगलामुखी मंत्र से अनेक नुकसान हो सकते हैं। आपको बगलामुखी मंत्र का इस्तेमाल करते हुए अनेक चीजों के बारे में ध्यान रखना होता है, जिसमें अगर आप इसका इस्तेमाल सही तरीके से नहीं करते हैं, तो आपको कई अलग-अलग प्रकार के नुकसान हो सकते हैं, जिसके बारे में नीचे विस्तार से चर्चा की गई है।

बगलामुखी मंत्र का माल करते समय आपको भोजन से लेकर पहनावे तक सब कुछ ही पीला रखना होता है, इसके अलावा आपको किसी भी प्रकार केक गलत उद्देश्य के पीछे नहीं जाना होता है, या फिर आपके अंदर कोई भी गलत उद्देश्य नहीं होना होता है। अन्यथा आपको कई नुकसान हो सकते हैं जिसके अंतर्गत ही है आपके चरण के लिए काफी हानिकारक होता है, आप तो इसके कई दुष्प्रभाव पड़ सकते हैं, आप पर कोई भी व्यक्ति आ सकती है, आपके मंत्र निष्फल हो सकते हैं, इसके अलावा आपकी साधना भी निष्फल हो सकती है।

तो ऐसे में आपको बगलामुखी मंत्र के समय अनेक बातों का ध्यान रखना चाहिए। वरना तो आपको यह सभी नुकसान हो का सामना करना पड़ सकता है।

बगलामुखी हवन सामग्री लिस्ट इन हिंदी

बगलामुखी हवन करने में आपको निम्नलिखित सामग्री की जरूरत पड सकती है:-

  • काले तिल
  • लोभान
  • गुग्गुल
  • कपूर
  • घी
  • पीली सरसों
  • नमक
  • काली मिर्च
  • नीम की छाल

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या होते हैं, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत बगलामुखी मंत्र से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां शेयर की है, जैसे कि बगलामुखी मंत्र से क्या क्या नुकसान हो सकते हैं, तथा आपको इसका इस्तेमाल करते हुए किन किन चीजों का ध्यान में रखना चाहिए, यदि आप उनको ध्यान में नहीं रखते हैं, तो आपको कि नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

बगलामुखी जाप कितना करना चाहिए?

1 लाख जप से साको सिद्ध होता है। जप पूर्ण होने के बाद दशांश यज्ञ और दशांश तर्पण भी आवश्यक है। अधिक सिद्धि के लिए 5 लाख मंत्र जाप भी किए जा सकते हैं। मामलों में सफलता और सभी प्रकार की प्रगति के लिए मां बगलामुखी यंत्र को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

मां बगलामुखी का कौन सा दिन होता है?

बगलामुखी जयंती प्रतिवर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है। इस साल बगलामुखी जयंती 20 मई को मनाई जाएगी। इस दिन मां बगलामुखी की पूजा की जाती है। बगलामुखी जयंती प्रतिवर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है।

मां बगलामुखी के भैरव कौन है?

माता बगलामुखी के भैरव मृत्युंजय हैं। इसलिए साधना के प्रारंभ में महामृत्युंजय की माला और बगला कवच का पाठ करना चाहिए. साधकों को चाहिए कि वे पीले वस्त्र धारण करें और अपनी मनोकामना/संकट से मुक्ति पाने के लिए हल्दी की माला से जाप करें. इस मंत्र का 1100 बार जाप करना चाहिए।