गंगा का उद्गम स्थल कहां स्थित है?

गंगा का उद्गम स्थल कहां स्थित है?

नमस्कार दोस्तों, गंगा का नाम भारत की सबसे प्रमुख नदियों के अंतर्गत आता है, इसके अलावा गंगा को भारत की मां भी कहा जाता है। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि गंगा का उद्गम स्थल कहां है, यदि आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है, तो आपका इसके बारे में जानना काफी आवश्यक है, क्योंकि यह सवाल कंपटीशन एग्जाम में अक्सर पूछा जाता है। यदि आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है, तथा इसके बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से इसके बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

आज के इस आर्टिकल के अंतर्गत हम आपको बताने वाले हैं कि गंगा का उद्गम स्थल कहां पर है, तथा इसके अलावा हम आपको इससे जुड़ी लगभग हर एक जानकारी देने वाले है। तो ऐसे में आपके लिए यह आर्टिकल काफी महत्वपूर्ण होने वाला है, तो इसको अंत तक जरूर पढ़िए।

गंगा का उद्गम स्थल कहां स्थित है?

यदि दोस्तों गंगा के उद्गम स्थल की बात की जाए तो इस नदी की प्रमुख शाखा “भागीरथी” है, जिसके द्वारा इस नदी को अधिकतम जल प्राप्त होता है। यह साका हिमालय के गोमुख नामक स्थान पर गंगोत्री हिमनद से निकलती है।

कहां से होती है गंगा की उत्पत्ति

गंगा नदी, जिसे गंगा के रूप में भी जाना जाता है, हिमालय पर्वत से 2,525 किलोमीटर (1,569 मील) उत्तरी भारत और बांग्लादेश में बंगाल की खाड़ी में बहती है। गंगा नदी हिमालय में गंगोत्री ग्लेशियर से शुरू होती है। ग्लेशियर 3,892 मीटर (12,769 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। गंगा नदी भारत और बांग्लादेश के देशों से होकर बहती है।

ganga nadi ka udgam kahan se hua hai

हालाँकि, बंगाल क्षेत्र में इसका बड़ा डेल्टा, जिसे वह ब्रह्मपुत्र नदी के साथ साझा करता है, ज्यादातर बांग्लादेश में स्थित है। गंगा भारतीय उपमहाद्वीप की प्रमुख नदियों में से एक है जो उत्तर भारत के गंगा के मैदान से पूर्व में बांग्लादेश में बहती है। नदी भारतीय राज्य उत्तराखंड में पश्चिमी हिमालय में लगभग 2,510 किमी की दूरी तय करती है और बंगाल की खाड़ी में सुंदरबन डेल्टा में गिरती है।

कितनी है गंगा की गहराई

नदी की औसत गहराई 16 मीटर (52 फीट) और अधिकतम गहराई 30 मीटर (100 फीट) है। गंगा में बहने वाली प्रमुख नदियाँ हैं: रामगंगा, गोमती, घाघरा, गंडकी, बूढ़ी गंडक, कोशी, महानंदा, तमसा, यमुना, सोन और पुनपुन। गंगा बेसिन अपनी उपजाऊ मिट्टी के साथ भारत और बांग्लादेश की कृषि अर्थव्यवस्थाओं के लिए महत्वपूर्ण है। यह ऐतिहासिक रूप से भी महत्वपूर्ण है क्योंकि कई पूर्व प्रांतीय या शाही राजधानियां जैसे पाटलिपुत्र, इलाहाबाद, कन्नौज, मुर्शिदाबाद, कलकत्ता, आदि इसके तट पर स्थित हैं। गंगा बेसिन लगभग 1,000,000 वर्ग किलोमीटर में बहती है।

गंगा नदी से जुड़ी खास बातें

यहां पर हमने आपके लिए गंगा नदी से जुड़ी कुछ खास बातें शेयर की है, जिनके बारे में आपका जानना काफी आवश्यक है :-

1. दोस्तों गंगा नदी को भारत का हृदय भी कहा जाता है। क्योंकि इस नदी से भारत के लाखों लोगों का गुजारा चलता है। यह नदी भारत का एक काफी बड़ा क्षेत्र कवर करती है तथा वहां पर जल की पूर्ति करती है।

2. गंगा नदी का हिंदू धर्म के अंतर्गत काफी महत्व है, इसको हिंदू धर्म के अंतर्गत काफी पूजनीय माना जाता है तथा हिंदू धर्म के लोग इसको मां के समान मानते हैं एवं इसकी पूजा भी करते हैं।

3. गंगा नदी का उद्गम स्थल गंगोत्री को कहा जाता है।

4. दोस्तों गंगा नदी से कई अलग-अलग छोटी-बड़ी नदियां निकलती है। गंगा नदी से निकलने वाली नदियों की सूची में मुख्य रूप से गोमती (Gomti), रामगंगा (Ramganga), गंडकी (Gandaki), घाघरा (Ghaghara), कोशी (Koshi), बुरि गंडक (Burhi Gandak), तमसा (Tamsa), महानंदा (Mahananda), सोन (Son), यमुना (Yamuna), और पुनपुन (Punpun) का नाम शामिल है।

आज आपने क्या सीखा

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल के अंतर्गत आपने जाना की गंगा नदी का उद्गम स्थल कहां पर है, हमने आपको इसके बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। इसके अलावा हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत बताया कि गंगा नदी से जोड़ी कौन सी ऐसी खास बातें हैं, जिनके बारे में आपका जानना काफी आवश्यक है।

हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत इस विषय से जुड़ी संपूर्ण जानकारियों को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह सभी जानकारियां पसंद आई है, तथा आपको आज इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई है सभी जानकारी पसंद आए तो इसे सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें तथा इस विषय के बारे में आप अपनी राय हमें कमेंट में देकर पहुंचा सकते हैं।

FAQ

गंगा जी का जन्म कब हुआ था?

वैशाख शुक्ल सप्तमी के दिन मां गंगा का जन्म माना जाता है। इस बार यह तिथि आज यानि 18 मई को थी। पुराणों में देवी गंगा के जन्म को लेकर कई कथाएं मिलती हैं। साथ ही गंगा के स्वर्ग से पृथ्वी पर आने का रहस्य भी बताया गया है।

गंगा जी की उत्पत्ति कैसे हुई?

जब भगवान शिव ने नारद मुनि ब्रह्मदेव और भगवान विष्णु के सामने एक गीत गाया, तो इस संगीत के प्रभाव से भगवान विष्णु को पसीना आने लगा, जिसे ब्रह्मा ने अपने कमंडल में भर दिया। इसी कमंडल के जल से गंगा का जन्म हुआ और वह ब्रह्मा के संरक्षण में स्वर्ग में रहने लगी।

गंगा पृथ्वी पर कब आई?

16432 ईसा पूर्व त्रेता युग में ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी के दिन गंगा का अवतरण हुआ था। कर्दम ऋषि दक्ष प्रजापति के समान थे, कपिल मुनि उनके पुत्र थे। सागर कपिल के समकालीन थे। भगीरथ का जन्म राजा सगर की पांचवी पीढ़ी में हुआ था।

Leave a comment