एक दिन की साधना बिना माला मंत्र की कैसे की जा सकती है?

एक दिन की साधना बिना माला मंत्र की कैसे की जा सकती है?

नमस्कार दोस्तो, साधना अनेक लोगों के जीवन में अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका रखती है, मुख्य रुप से साधना माला मंत्र के द्वारा ही की जाती है। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि एक दिन की साधना बिना माला मंत्र की कैसे की जा सकती है, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि एक दिन की साधना बिना माला मंत्र की कैसे की जा सकती है, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

एक दिन की साधना बिना माला मंत्र की कैसे की जा सकती है?

ek din ke kathan bina mala mantra ke kaise ke ja sakti hai

हिंदू धर्म के अंतर्गत साधना अपना एक महत्वपूर्ण योगदान देती है, तथा यह काफी महत्वपूर्ण होती है। जैसा कि आपको पता होगा की साधना के लिए किसी भी व्यक्ति को माला मंत्र की आवश्यकता होती है, जिसके अंतर्गत साधना के वक्त मन किसी मंत्र को पढ़ता है।

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल है, कि क्या बिना मंत्र या फिर बिना माला मंत्र की साधना की जा सकती है, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि ऐसा करना बिल्कुल भी संभव नहीं है। बिना माला मंत्र की कोई भी साधना नहीं की जा सकती है, ऐसा माना जाता है, कि यदि कोई भी व्यक्ति बिना मंत्र या फिर बिना माला के साधना करने का प्रयत्न करता है, तो वह विचलित हो सकता है जो उसके लिए काफी बुरा साबित हो सकता है।

अध्यात्मिक साधना किसे कहते हैं?

दोस्तों जो भी व्यक्ति साधना के अंतर्गत अपनी रुचि रखता है या फिर जिसको साधना को जाना है, तो उसे आध्यात्मिक साधना के बारे में जानकारी होना काफी आवश्यक है। दोस्तों आध्यात्मिक साधना को ब्रह्म साधना भी कहा जाता है, क्योंकि इस आध्यात्मिक साधना के अंतर्गत ब्रह्मांड के ज्ञान तथा ईश्वरीय ज्ञान की प्राप्ति होती है, इसलिए ही इसे आध्यात्मिक साधना या फिर ब्रह्म साधना के नाम से जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जो भी व्यक्ति आध्यात्मिक साधना के अंतर्गत अपनी रुचि रखता है या फिर आध्यात्मिक साधना के अंदर अपना मन रखता है, उसको आगे चलकर मोक्ष की प्राप्ति होती है।

स्तुति साधना क्या है?

जब भी हम देवी देवताओं की पूजा करते हैं, तो हम अलग-अलग प्रकार के मंत्र को बोलते हैं, या फिर उनके मंत्रों का गायन करते हैं, इसके अलावा उन मंत्रों के गायन के समय है उनकी भक्ति के अंतर्गत जान मगर हो जाते हैं तो इस प्रकार की साधना को ही स्तुति साधना कहा जाता है।

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि एक दिन की साधना बिना माला मंत्र की कैसे की जा सकती है, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत साधना से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी शेयर की है, जैसे साधना कौन-कौन से प्रकार की होती है, आध्यात्मिक साधना किसे कहते हैं, स्तुति साधना किसे कहते हैं, तथा क्या बिना माला मंत्र की साधना की जा सकती है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

क्या बिना माला के मंत्र जाप कर सकते हैं?

मनीष शर्मा के अनुसार मंत्र जप के लिए यदि माला उपलब्ध न भी हो तो आसान विधि से निश्चित संख्या में मंत्र जाप किया जा सकता है। यह है तरीका- कर्मला यानी उंगलियों पर मंत्रों को गिनकर मंत्र जप करना।

चलते फिरते मंत्र जाप करने से क्या होता है?

यह जप करने वाले को हर चरण में सफलता दिलाती है। वह प्राणी जिसमें राम नाम का वास स्थायी रूप से होता है। बिना किसी के चलते, उठते-बैठते, हर चरण में राम नाम का जाप होता है।

सबसे शक्तिशाली मंत्र कौन सा है?

गायत्री मंत्र को शास्त्रों में बहुत शक्तिशाली बताया गया है। इतना ही नहीं इसे महामंत्र कहा गया है। गायत्री मंत्र ‘ओम भुर्भावः स्वाः तत्सवितुर्वारेण्यम भार्गो देवस्य धिमहि ध्यो यो ना: प्रचोदयात’ 24 अक्षरों से बना है।

मंत्र कितने दिन में सिद्ध होता है?

इसी प्रकार निरंतर जप का अभ्यास करने से वह मंत्र आपके मन में इस प्रकार स्थिर हो जाता है कि वह नींद में भी चलता रहता है और अंत में एक दिन वह मंत्र सिद्ध हो जाता है।