पहला लिखित संविधान किसने दिया था?

पहला लिखित संविधान किसने दिया था?

नमस्कार दोस्तों, सविधान किसी भी देश का एक काफी ऐसा होता है तथा उसके नियमों पर ही उस देश का संचालन किया जाता है। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि पहला लिखित संविधान किसने दिया था, (Pratham likhit sanvidhan kisne diya tha ) यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि पहला लिखित संविधान किसने दिया था, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

पहला लिखित संविधान किसने दिया था? (Pratham likhit sanvidhan kisne diya tha)

दोस्तो अक्सर कई अलग-अलग कंपटीशन एग्जाम के अंतर्गत यह सवाल पूछा जाता है, कि पहला लिखित संविधान किसने दिया था, और बहुत लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं होती है। यदि आपको भी इसके बारे में जानकारी नहीं है तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि पहला लिखित संविधान अमेरिका के द्वारा दिया गया था। संयुक्त राज्य अमेरिका के संविधान का निर्माण सन 1787 के अंतर्गत किया गया था, तथा इसे विश्व का पहला लिखित संविधान घोषित किया गया था या फिर यह विश्व का पहला लिखित संविधान था।

विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान कौन सा है?

अगर दोस्तों बात की जाएगी विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान कौन सा है, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि विश्व का सबसे बड़ा संविधान भारत देश का संविधान है। भारत देश के संविधान को बनने के लिए 2 साल, 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था, जिसको 26 जनवरी सन 1950 को लागू किया गया था, जो कि दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है।

sabse bada samvidhan kis desh ka hai

विश्व का सबसे छोटा सविधान कहां का है?

अगर दोस्तों बात की जाएगी विश्व का सबसे छोटा सविधान कहां का है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं, कि मोनाको देश का संविधान विश्व का सबसे छोटा सविधान है।

दुनिया का सबसे पुराना संविधान कौन सा है?

अगर दुनिया के सबसे पुराने सविधान की बात की जाए तो ब्रिटिश देश का संविधान दुनिया का सबसे पुराना सविधान है। दोस्तों ब्रिटिश संविधान को “संविधानो की जननी” भी कहा जाता है। जिसके पीछे का मुख्य कारण है कि एक तो यह विश्व का पहला संविधान था और दूसरा यह है की अन्य सविधानो का निर्माण भी इस सविधान को देखते हुए किया गया था तथा अनेक संस्थानों के अंतर्गत इस सविधान से कई चीजों को कॉपी गया था।

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि Pratham likhit sanvidhan kisne diya tha (प्रथम लिखित संविधान किसने दिया था), हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत अलग-अलग देशों के संविधान से जुड़ी कुछ अन्य जानकारियां भी शेयर की है जिनके बारे में आपका जानना काफी आवश्यकता था।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

लिखित संविधान कौन सा है?

भारतीय संविधान की मूल प्रति हिंदी और अंग्रेजी दोनों में हस्तलिखित थी। इसमें टाइपिंग या प्रिंट का उपयोग नहीं किया गया था। दोनों भाषाओं में संविधान की मूल प्रति प्रेम बिहारी नारायण रायजादा ने लिखी थी। रायज़ादा का पारिवारिक पेशा सुलेखन था।

भारत का संविधान कितने लोगों ने लिखा था?

भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ, लेकिन उससे दो महीने पहले 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने कई चर्चाओं और संशोधनों के बाद आखिरकार संविधान को अपनाया। दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान बनाने के लिए देश भर से 389 सदस्य चुने गए थे।

सबसे पुराना संविधान कौन सा है?

ब्रिटिश संविधान की विशेषताएं ब्रिटिश संविधान को “सभी संविधानों की जननी” कहा जाता है क्योंकि इस सबसे पुराने संविधान ने बाद के सभी संविधानों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य किया।

संविधान कहाँ से लिया गया है?

भारत की संसदीय शासन प्रणाली ब्रिटेन से प्रेरित है। साथ ही संविधान में एकल नागरिकता, कानून बनाने की प्रक्रिया, कानून का शासन, कैबिनेट प्रणाली, अदालती विशेषाधिकार, संसदीय विशेषाधिकार और द्विसदनीयता को ब्रिटिश संविधान से लिया गया है।