संभोग से समाधि की और क्या है? | Sambhog Se Samadhi Ki Aur

संभोग से समाधि की और क्या है? | Sambhog Se Samadhi Ki Aur

नमस्कार दोस्तो, आपने अक्सर अपने जीवन के अंतर्गत संभोग से समाधि की ओर किताब के बारे में तो जरूर सुना होगा। दोस्तों क्या आप जानते है कि संभोग से समाधि की ओर के लेखक कौन है(sambhog se samadhi ki aur in hindi),, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि संभोग से समाधि की ओर किताब क्या है (sambhog se samadhi ki aur in hindi), तथा इसके बारे में किसके ऊपर वर्णन किया गया है, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

संभोग से समाधि की और क्या है? (sambhog se samadhi ki aur in hindi)

संभोग से समाधि की और ओशो के द्वारा लिखी गई एक किताब है, इस किताब के अंतर्गत एक व्यक्ति के जीवन की कई चीजों के बारे में वर्णन किया गया है। जिसमें कई पहलुओं के बारे में बात की गई है। जो भी व्यक्ति सरदा के अंतर्गत विश्वास रखता है, या फिर वह समाधि की ओर जाना चाहता है, तो उसको इस किताब को जरूर पढ़ना चाहिए।

ओशो कौन है?

sambhog se samadhi tak book

दोस्तों ओशो का जन्म 11 दिसंबर 1931 को मध्यप्रदेश के कुछ वाड़ा नामक स्थान पर हुआ था। ओशो का बचपन के अंतर्गत नाम चंद्र मोहन जैन था, जिनको बचपन से ही दर्शन के अंतर्गत काफी रूचि थी और इन सभी चीजों के बारे में उन्होंने अपनी किताब ग्लिपसेंस ऑफ माय गोल्डन चाइल्डहुड के अंतर्गत लिखा है। ओशो के द्वारा अपनी पढ़ाई को जबलपुर के अंतर्गत पूरा किया गया था, उसके बाद जबलपुर यूनिवर्सिटी के द्वारा उनके द्वारा लेक्चरर के तौर पर काम किया गया था।

जैसा कि हमने आपको बताया कि उनको धर्म तथा दर्शन के अंतर्गत काफी रूचि थी, तो उसी में इस विचारधारा के अंतर्गत परे देश के अंतर्गत प्रवचन देना शुरू कर दिया था। फिर धीरे-धीरे उनकी बात पूरी दुनिया भर में होने लगी थी।

इसी के बीच उनके द्वारा कई अलग-अलग किताबों को वह भी लिखा गया था, जिन किताबों को आज भी अनेक लोगों के द्वारा पढ़ा जाता है, तथा उन किताबें अनेक लोगों के जीवन में अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। संभोग से समाधि की ओर ओशो के द्वारा लिखी गई ही इन किताबों की सूची के अंतर्गत आती है। इस किताब के अंतर्गत भी ओशो के द्वारा जिंदगी के कई पहलुओं के बारे में बात की गई है। तुम मेरी राय में आपको इस किताब को अपने जीवन के अंतर्गत एक बार तो जरूर पढ़ना चाहिए, आपको इससे जीवन से जुड़ी कई चीजों को सीखने मिलने वाली है।

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि संभोग से समाधि की ओर किताब क्या है, (sambhog se samadhi ki aur in hindi),जनसंख्या संगठन का क्या महत्व होता है, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत मेरे संभोग से समाधि की ओर किताब से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी शेयर की है, जैसे कि संभोग से समाधि की ओर किताब क्या है, इसके अंतर्गत किन किन पहलुओं के ऊपर बात की गई है, तथा इसकी रचना किसके द्वारा की गई है, एवं इसके रचयिता की क्या कहानी है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।