वक्रतुंड महाकाय मंत्र | vakratunda mahakaya mantra in hindi

नमस्कार दोस्तो, जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि हिंदू धर्म के अंतर्गत सबसे पहले गणपति जी की पूजा की जाती है, और गणपति जी की पूजा के लिए वक्रतुंड महाकाय मंत्र का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है। दोस्तों क्या आप जानते है कि वक्रतुंड महाकाय मंत्र क्या है तथा इसका अर्थ क्या होता है, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि वक्रतुंड महाकाय मंत्र क्या है, तथा इसका हिंदी भाषा में क्या अर्थ होता है, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

वक्रतुंड महाकाय मंत्र

vakratunda mahakaya shloka in hindi

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ: ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ॥

मंत्र के लाभ

  • इस मंत्र का जाप करने से आपके सारे काम पूरे हो जाते हैं और आपको सफलता मिलती है।
  • इस मंत्र का जाप करने से अपार लाभ मिलता है।
  • मां सरस्वती के वरदान के कारण भगवान गणेश को ज्ञान और बुद्धि का देवता भी कहा जाता है और वे बुद्धि का विकास करते हैं।
  • भगवान गणेश सबसे पहले पूजे जाने वाले देवता हैं और सुबह सबसे पहले श्री गणेश के इस मंत्र का जाप करने से सारे काम पूरे हो जाते हैं।
  • भगवान गणेश के इस मंत्र का जाप करने से भय, शंका और अनिष्ट शक्तियां दूर रहती हैं।
  • भगवान गणेश भी मनुष्य को सफलता और वृद्धि के लिए शक्ति प्रदान करते हैं।

वक्रतुंड महाकाय मंत्र का हिंदी भाषा में अर्थ

दोस्तों इस मंत्र का हिंदी भाषा में अर्थ होता है, कि जिनका शरीर विशाल है, जो अपने भक्तजनों के पाप को तुरंत हर लेते है, जो करोड़ों सूर्य के समान तेजस्वी हैं, जो ज्ञान का प्रकाश चारों ओर फैला सकते हैं, जो सभी कार्यों में होने वाले बाधाओं को दूर कर सकते है, वैसे प्रभु आप मेरे सभी कार्यों की बाधाओं को शीघ्र दूर करें। आप मुझ पर अपनी कृपा दृष्टि सदैव बनाए रखें।

इसके अंतर्गत गणेश जी का वर्णन किया गया है, कि वह कैसे दिखते हैं, उनका शरीर कैसा होता है, किस तरह से वह अपने भक्तों की मदद करते है।

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि vakrtund mahakay yantra, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत वक्रतुंड महाकाय यंत्र से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी शेयर की है, जैसे कि वक्रतुंड महाकाल यंत्र क्या है, इसमें क्या वर्णन किया गया है तथा इसका हिंदी भाषा में क्या अर्थ होता है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

गणेश जी का आवाहन कैसे करें?

सबसे पहले भगवान गणेश का आह्वान करें और उस दौरान इस मंत्र का जप करें। गजाननं भुतगनादिसेवितम् कपिथाजंबु फल चारु भाषनम्। उमासुतम शोक विनाशकर्म नमामि विघ्नेश्वर पदपंकजम्। आप ईश्वर के स्थान पर स्थिर रहें।

गुरु मंत्र क्या है?

गुरु मंत्र वह है जो गुरु अपने शिष्य को देता है, जो तब अपने आध्यात्मिक विकास के लिए मंत्र का जाप करता है। संस्कृत से व्युत्पन्न, gu का अर्थ है “अंधेरा”; आरयू का अर्थ है “रिमूवर”; मनुष्य का अर्थ है “सोच”; और tra का अर्थ है “मुक्त करना।” इसलिए गुरु अंधकार को दूर करने वाला है और मंत्र मुक्ति का साधन है।

कौन सा गणेश मंत्र शक्तिशाली है?

ओम् एकदंताय विधामहे, वक्रतुंडय धिमहि, तन्नो दंति प्रचोदयात ..!! अर्थ: हम एक दांत वाले हाथीदांत से प्रार्थना करते हैं जो सर्वव्यापी है। हम अपने मन को ज्ञान से रोशन करने के लिए दांतेदार हाथी दांत को नमन करते हैं।

HomepageClick Hear