NET Exam क्या है? फुल फॉर्म, योग्यता, फीस और परीक्षा पैटर्न

NET Exam क्या है? फुल फॉर्म, योग्यता, फीस और परीक्षा पैटर्न

सरकारी नौकरी के क्षेत्र में एक बेहतरीन टीचर बनना काफी अच्छा चुनाव हो सकता है। लेकिन टीचर बनने के अलावा भी यदि कोई व्यक्ति Dedicated Professor बनता है, तो वह Teacher की तुलना में काफी अधिक अच्छा चुनाव माना जाता है।

लेकिन एक Professor बनने के लिए या किसी शिक्षण संस्थान में या  सरकारी College में Professor बनने के लिए NET का Exam पास करना होता है।

अब आप सोचते होंगे कि है NET Exam kya hai, तो आज हम आपको बताएंगे कि NET Exam kya hai, Net का फुल फॉर्म क्या होता है, NET के लिए योग्यता क्या है, NET की फीस कितनी होती है।

NET को पास करने के लिए क्या करना होता है, NET के Exam का पैटर्न क्या होता है, और NET पास करने के बाद में क्या होता है। तो चलिए शुरू करते हैं और ये सभी जानकारी हम आपको विस्तारपूर्वक देते हैं।

NET Exam क्या है? | net kya hota hai

यदि आप किसी महाविद्यालय College या शिक्षण संस्थान में प्रोफेसर या शिक्षक बनने की इच्छा रखते हैं, तो आपको यह इच्छा NET का Exam पास कर के ही पूरी करनी होती है। क्योंकि NET का Exam एक ऐसी परीक्षा होती है जिसे पास करने के पश्चात आप प्रोफेसर या किसी बड़े शिक्षण संस्थान में शिक्षक बन पाते हैं।

आमतौर पर हर एक साल में दो बार होता है, और नेशनल टेस्टिंग एजेंसी इसका आयोजन करती है। यह कंप्यूटर  बेस्ड टेस्टिंग होती है, तथा  इस Exam का पूरा नाम UGC-NET होता है अर्थात University Grant Commission-NET होता है।  राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा के द्वारा विश्वविद्यालय या महाविद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति की जाती है।

लेकिन इस परीक्षा को पास करना इतना आसान भी नहीं है। हर वर्ष लाखों विद्यार्थी इस परीक्षा को पास करने की कोशिश करते हैं, जिसमें से केवल 1000 विद्यार्थी ही सफल हो पाते हैं। यानी की सफलता का मापदंड  0.1 प्रतिशत या 0.05 प्रतिशत होता है।

परीक्षा का नाम योग्यता
विभाग नेशनल टेस्टिंग एजेंसी
ऑफिसियल वेबसाइट https://ugcnet.nta.nic.in
एग्जाम टाइप नेशनल लेवल
पेपर की भाषा हिंदी व इंगलिश
प्रश्नों के प्रकार ओबजेक्टिव टाइप
एग्जाम मोड ऑनलाइन
मार्किंग हर सही जवाब के 2 मार्कस

NET का फुल फॉर्म क्या होता है? | NET ka Full Form kya hota hai

net kya hai
net ka exam kya hota hai

NET का Full Form Nation Eligibility Test होता है।  इसके आधार पर यह समझा जा सकता है कि  राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षकों की नियुक्ति महाविद्यालयों में करने के लिए परीक्षा का आयोजन University Grant Commission के द्वारा किया जाता है, और  इस कमीशन के सुपरविजन National Testing Agency करती है।

NET के Exam के लिए योग्यता

NET Exam  देने के लिए आप में कुछ योग्यताओं का होना आवश्यक है जैसे कि-

  • आप एक ग्रेजुएट उम्मीदवार होने चाहिए।
  • आपने किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया होना चाहिए।
  • यूनिवर्सिटी में कम से कम 55% अंकों से उत्तीर्ण होने चाहिए।
  • उम्मीदवार के पास मास्टर डिग्री होना चाहिए,
  • मास्टर डिग्री की परीक्षा के पश्चात डिग्री या रिजल्ट के इंतजार में यदि कोई विद्यार्थी है तो वह भी इस परीक्षा के लिए अप्लाई कर सकता है।
  • मिनिमम एज लिमिट 30 वर्ष होती है मैक्सिमम निर्धारित नहीं है।

NET की उम्र सीमा क्या है?

NET ke liye Age Limit तो अगर हम इस परीक्षा में जूनियर रिसर्च फेलो के लिए आवेदन करना चाहते हैं।

तो इसके लिए अधिकतम आयु सीमा 31 वर्ष है, इसके साथ ही सहायक प्रोफेसर जैसे पदों पर आवेदन के लिए किसी भी प्रकार की कोई आयु सीमा नहीं है।

इसके साथ ही अगर UGC NET की उम्र में छूट की बात करें तो अगर आप LLM की डिग्री कर रहे हैं तो इस परीक्षा में आपको उम्र में तीन साल की छूट मिलती है।

इसके साथ ही अगर आप भूतपूर्व सैनिक, शोध उम्मीदवार हैं और अन्य पिछड़ी जातियों जैसे एसटी/एससी/ओबीसी से आते हैं तो आपको पांच साल की छूट दी जाती है।

NET एग्जाम का फॉर्म कैसे भरें?

  • नेट परीक्षा में बैठने के लिए सबसे पहले आपको पोस्ट ग्रेजुएशन करना होगा।
    पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के बाद जब नेट परीक्षा के लिए आवेदन फॉर्म निकल जाए तो आपको आवेदन करना होगा।
  • एनटीए समय-समय पर नेट परीक्षा के लिए अधिसूचना जारी करता है।
    जब नेट परीक्षा के लिए आवेदन पत्र समाप्त हो जाता है,
  • फिर एनटीए की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आपको नेट परीक्षा के लिए आवेदन पत्र भरना होगा।
  • आवेदन पत्र भरने के बाद, ऑनलाइन परीक्षा शुल्क का भुगतान करने का विकल्प है।
  • वहां शुल्क का भुगतान करना होगा।

NET के Exam की फीस | NET Fees

Exam के लिए सामान्य वर्ग के लिए ₹1000 की फीस होती है, OBC या EWS के लिए ₹500 की फीस होती है, तथा ST/SC और PWD उम्मीदवारों के लिए मात्र ₹250 होती है।

NET के Exam का Pattern

net exam kya hai in hindi
net exam kya hai in hindi

NET के Exam का पेपर  इसके पैटर्न के अनुसार निर्धारित किया जाता है। इसका pattern काफी सामान्य होता है,  NET के Exam में आमतौर पर 2 पेपर होते हैं।

पहला पेपर जनरल एप्टीट्यूड का होता है।

दूसरा कैंडिडेट के द्वारा चयनित विषय होता है।

यह चयनित विषय परीक्षार्थी को दिए गए और सब्जेक्ट में से किसी एक का चुनाव करके बताना होता है।

पहले पेपर में कुल 50 प्रश्न होते हैं, दूसरे पेपर में जो प्रश्न होते हैं  दोनों पेपरों में प्रत्येक प्रश्न के लिए 2 अंक निर्धारित किए गए हैं। कुल मिलाकर 300 अंकों का पूरा Exam होता है।

एक पेपर को हल करने के लिए एक घंटा, दूसरे पेपर को हल करने के लिए 2 घंटे का समय होता है।   इस पेपर में नेगेटिव मार्किंग नहीं होती है।

राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा या राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा हिंदी और अंग्रेजी दोनों माध्यम में होती है। न केवल हिंदी और अंग्रेजी, बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर अन्य कई भाषाओं में भी यह परीक्षा आयोजित की जाती है। अपने पसंदीदा विषय  चुनने  के लिए आप इसका फॉर्म भरते समय  अपने पसंदीदा भाषा का चुनाव कर सकते हैं।

Exam पास करने के बाद क्या करें?

NET का Exam पास करने के बाद आप किसी Private College या Govt। College में  Lecturer के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। Private College में आपको काफी अच्छी सैलरी मिलती है, लेकिन सरकारी College में आप को सैलरी के साथ-साथ अन्य कई सुविधाएं मिलती है।

आप अपना खुद का कोचिंग सेंटर ओपन कर सकते हैं। आप अपने इंस्टिट्यूट में या अन्य किसी व्यक्ति के इंस्टिट्यूट में NET के Exam की तैयारी करवा सकते हैं। NET का Exam देकर आप पीएचडी भी कर सकते हैं।

NET Exam Clear करने के फायदे | UGC NET Clear Karne ke Fayde

  • UGC NET क्लियर करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि NET सर्टिफिकेट जीवन भर के लिए वैध होता है। जेआरएफ की वैधता तीन साल है।
  • JRF क्लियर करने के बाद आपको पीएचडी के दौरान 30-35000 रुपये प्रति माह फेलोशिप के रूप में मिलते हैं। नेट पास करने वाले उम्मीदवारों को विश्वविद्यालय करीब 10-12000 रुपये प्रति माह की छात्रवृत्ति देते हैं, लेकिन अगर आप आईआईटी जैसी संस्था से पीएचडी कर रहे हैं तो यह राशि जेआरएफ के बराबर है। इस तरह आप आय की चिंता किए बिना पूरे मन से पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
  • अगर आप जेआरएफ क्लियर नहीं कर पा रहे हैं तो भी नेट के बाद बिना एंट्रेंस एग्जाम दिए विश्वविद्यालयों में पीएचडी कर सकते हैं।
  • आप यूजीसी पोर्टल पर अपनी जानकारी दर्ज कर सकते हैं, जो आपको बेहतरीन नौकरियों के बारे में अपडेट रखेगा।

निष्कर्ष 

आज के इस लेख में हमने आपको बताया कि नेट एग्जाम क्या है?, nat exam full form और ugc net ka exam kon de sakta hai? इसके अलावा NET के Exam के बारे में हमने आपको लगभग सारी जानकारी प्रदान की है।

हम आशा करते हैं कि आज का यह लेख पढ़ने के पश्चात “NET Exam kya hai” यह जानने के लिए आपको किसी अन्य लेख को पढ़ने की आवश्यकता नहीं होगी। यदि आप हमसे कोई सवाल पूछना चाहते है तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं। जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

FAQ

नेट करने से क्या होता है?

राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा या ‘यूजीसी नेट’ भारत में एक राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा है। विश्वविद्यालयों में शिक्षण प्रवेश के लिए स्नातकोत्तर प्रतियोगियों के लिए ये अर्हक परीक्षाएं हैं। यह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा अर्ध-वार्षिक रूप से आयोजित किया जाता है।

नेट की परीक्षा देने से क्या होता है?

UGC NET परीक्षा एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है। यह परीक्षा स्नातकोत्तर छात्रों को विश्वविद्यालय में शिक्षक बनने के लिए पात्रता प्रदान करती है, साथ ही पीएचडी करने के लिए प्रवेश की सुविधा प्रदान करती है।

नेट का पेपर कौन दे सकता है?

यूजीसी नेट परीक्षा के लिए योग्यता क्या है? UGC NET परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवार के पास मास्टर डिग्री में 55% या उससे अधिक अंक होने चाहिए। जो यूजीसी द्वारा अनुमोदित भाषाओं या विषयों (सामाजिक विज्ञान, कंप्यूटर विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक विज्ञान) में उपस्थित हुए हैं और उसमें भी 55% से अधिक हैं, तो वे परीक्षा दे सकते हैं।

नेट पास करने के बाद क्या होता है?

परीक्षा पास करने के बाद आप किसी निजी कॉलेज में प्रोफेसर या लेक्चरर के लिए आवेदन कर सकते हैं। या गवर्नमेंट कॉलेज प्रोफेसर भर्ती के लिए आवेदन कर सकते हैं। आप अपना खुद का कोचिंग सेंटर या किसी संस्थान में खोलकर नेट परीक्षा की तैयारी ऑनलाइन या ऑफलाइन कर सकते हैं।