DNA की खोज किसने की थी? (Who discovered DNA)

DNA की खोज किसने की थी? (Who discovered DNA)

नमस्कार दोस्तों, आपने अक्सर अपने चारों तरफ डीएनए के बारे में तो सुना ही होगा और अगर आप बायोलॉजी के स्टूडेंट हैं तो आपको DNA के बारे में जरूर पता होगा। डीएनए हमारे शरीर का एक में बहुत महत्वपूर्ण भाग होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि डीएनए की खोज किसने की थी 

अगर आप जानना चाहते हैं कि डीएनए की खोज किसने की थी तो इस पोस्ट में आपको सारी जानकारी मैंने वादी है कि डीएनए की खोज आखिरकार किसने की थी इसके अलावा हम आपको डीएनए से जुड़ी और भी अधिक जानकारियां देने वाले हैं।

DNA की खोज किसने की थी?

डीएनए की खोज दो वैज्ञानिकों ने की थी जिनमें जेम्स वाटसन और फ्रांसिस क्रिक का नाम आता है, जेम्स वाटसन और फ्रांसिस क्रिक ने सन 1953 में डीएनए की खोज की थी। जेम्स वाटसन और फ्रांसिस क्रिक कि इतनी बड़ी उपलब्धि के लिए उन्हें सन 1962 के नोबेल अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

तो चलिए दोस्तों आप समझते हैं कि डीएनए क्या होता है तथा यह किस तरह से काम करता है वह आपकी शरीर में डीएनए की क्या भूमिका होती है।

DNA क्या है

डीएनए एक अणु का समूह होता है जो वंशानुगत गुणों को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में पहुंचाता है, आसान शब्दों में समझा जाए तो डीएनए एक ऐसा अणु का समूह होता है जो किसी भी माता-पिता के गुणों को उनके बच्चों तक पहुंचाता है।

इसे अगर उदाहरण के तौर पर समझे तो अगर आपके माता पिता ने आपको जन्म दिया है, तो आपके गुणों में तथा आपके माता-पिता के कुछ गुणों में समानता होती है जैसे कि किसी का चेहरा उसके माता-पिता से मिलता है किसी की हाइट उसके माता या पिता से मिलती है या किसी का शरीर का कुछ और अंग उसके माता-पिता से मिलता है यह सब डीएनए के कारण ही होता है। 

डीएनए किसी भी व्यक्ति को उसके माता-पिता के साथ जोड़ता है या फिर किसी भी माता-पिता को उनके बच्चे के साथ जोड़ता है।

डीएनए की मदद से किसी भी व्यक्ति के माता-पिता का पता लगाया जा सकता है इसके अलावा किसी भी माता-पिता के बच्चे का पता लगाया जा सकता है।

तो इन सामान्य उदाहरण से आप समझ गए होंगे कि डीएनए क्या होता है तथा एक किस तरह से काम करता है तथा इसका क्या इस्तेमाल होता है।

डीएनए का इस्तेमाल कई जगहों पर किया जाता है अगर कहीं पर पुलिस को जरूरत होती है तो यह है पुलिस द्वारा काफी बार इस्तेमाल किया जाता है इसके अलावा अनेक जगहों पर डीएनए का इस्तेमाल किया जाता है, अगर किसी को पता लगाना है कि किसी बच्चे के माता पिता कौन है तो उसके लिए अक्सर डीएनए का इस्तेमाल किया जाता है।

तो चलिए दोस्तों अब हम जानते हैं कि डीएनए की फुल फॉर्म क्या होती है, डीएनए की हिंदी और इंग्लिश में अलग-अलग फुल फॉर्म होती है जिनके बारे में आपको नीचे बताया गया है।

DNA की खोज किसने की थी? (Who discovered DNA)

डीएनए का फुल फॉर्म

डीएनए का Full form ‘Deoxyribonucleic Acid’ होता है, डीएनए को हिंदी भाषा में ‘डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक अम्ल’ कहा जाता है।

DNA full form in English:- Deoxyribonucleic Acid

DNA full form in Hindi:- डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक अम्ल’

Also Read: Father of physics in Hindi

हमने क्या सीखा

दोस्तों हमने आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताया कि डीएनए की खोज किसने की थी, इसके अलावा हमने आपको डीएनए से जुड़ी अन्य जानकारियां भी दी है कि डीएनए क्या होता है यह किस तरह से काम करता है तथा डीएनए की फुल फॉर्म क्या होती है।

उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी तथा आपको कुछ नया सीखने को मिला होगा क्योंकि डीएनए हमारे शरीर का यह काफी महत्वपूर्ण हिस्सा होता है।

इस जानकारी को सोशल मीडिया के माध्यम से अपने तमाम दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें, और नीचे कमेंट करके हमें अपनी राय जरूर दें।

धन्यवाद

Leave a comment