राजा जनक का ससुराल कहां था? | raja janak ki sasural kahan hai

राजा जनक का ससुराल कहां था? | raja janak ki sasural kahan hai

नमस्कार दोस्तों, यदि आप रामायण के विषय के बारे में रुचि रखते हैं, तो आपने राजा जनक के बारे में जरूर सुना होगा जो कि भगवान श्री राम की पत्नी सीता के पिताजी थे। दोस्तों क्या आप जानते हैं, कि राजा जनक का ससुराल कहां था, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तो आप इसके बारे में जानना चाहते हैं, कि राजा जनक चुराल का ससुराल कहां था तो इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको यह सभी जानकारी देने वाले हैं।

आज के इस आर्टिकल के अंतर्गत हम आपको बताने वाले हैं कि राजा जनक का ससुराल कहां था, इसके अलावा राजा जनक की ससुराल से जुड़ी कुछ अन्य जानकारियां भी हम आपको इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं।

राजा जनक का ससुराल कहां था?

रामायण के अनुसार राजा जनक का ससुराल जनकपुर था। जनकपुर प्राचीन काल में नेपाल के अंतर्गत स्थित एक काफी महत्वपूर्ण धार्मिक तीर्थ स्थल था। जनकपुर प्राचीन काल में मिथिला की राजधानी हुआ करता था, और इसी जनकपुर के अंतर्गत सीता के पिता जी राजा जनक का ससुराल था।

raja janak ki sasural

जनकपुर के बारे में

दोस्तों जनकपुर नेपाल में स्थित एक धार्मिक स्थल है, जो प्राचीन काल में मिथिला राज्य की राजधानी भी था। दोस्तों जनकपुर के अंतर्गत मुख्य रूप से मैथिली, हिंदी और नेपाली भाषा का प्रयोग किया जाता है। यहां को देखने के लिए अनेक लोग प्रत्येक वर्ष आते हैं। जनकपुर का नाम नेपाल के प्रमुख पर्यटन स्थलों की सूची के अंतर्गत आता है, इसके पीछे का मुख्य कारण यह है, कि यह स्थल भगवान श्रीराम से जुड़ा हुआ है, तो अनेक हिंदू पर्यटक तथा अनेक हिंदू धर्म के लोग यहां पर घूमने आते हैं।

जनकपुर के अंतर्गत ग्राम तथा राम जानकी के कई मंदिर स्थित है, जिन को देखने के लिए अनेक पर्यटक स्थल आते हैं। इस जनकपुर का इतिहास भगवान श्री राम तथा रामायण के साथ जुड़ा हुआ है। जनकपुर के अंतर्गत भगवान श्री राम की अनेक मंदिर स्थित है, इसके अलावा यह शहर भगवान श्री राम की पत्नी सीता के साथ भी काफी जुड़ा हुआ है। यहां के स्थानीय लोगों के बीच श्री राम की पत्नी सीता का काफी महत्व है, तथा इसकी पूजा भी की जाती है। हिंदू धर्म के लोगों के दी यह पर्यटक स्थल उनके प्रमुख पर्यटक स्थल की सूची में आता है।

जैसा कि आपने रामायण के अंतर्गत पड़ा होगा या फिर देखा होगा कि जब श्री राम की सीता के साथ सगाई हुई थी, उससे पहले सीता के पिता जी राजा जनक ने एक स्वयंबर का आयोजन करवाया था, जिसके अंतर्गत एक शिव धनुष को रखा गया था, तथा उस शिव धनुष उसको उठाकर जो भी उसे प्रत्येका चढ़ाता, उसके साथ सीता विवाह करने वाली थी। यह कार्य किसी भी राजा के लिए करना काफी मुश्किल था, क्योंकि यह शिव धनुष काफी ज्यादा भारी था। जैसा कि आपको पता है, कि श्री राम तो खुद ही भगवान है, तो उन्होंने यह काम कर दिया था। दोस्तों राजा जनक के द्वारा इस नंबर का आयोजन भी जनकपुर के अंतर्गत ही करवाया गया था, जो की रामायण को इस जनकपुर के साथ काफी करीब से जोड़ देता है।

Also read:

आज आपने क्या सीखा

तो आज कैसा फील के अंतर्गत आपने जाना कि कि राजा जनक का ससुराल कहां पर स्थित था, हमने आपको इस पोस्ट के माध्यम से राजा जनक की ससुराल से जुड़ी सभी जानकारियों को दिया है। इसके अलावा आज के साथियों के अंतर्गत हमने आपको राजा जनक की ससुराल जनकपुर से जुड़ी कुछ अन्य जानकारियों को भी शेयर करने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई है, तो आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया सीखने को मिला है। अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई, तो इसे सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें। इसके अलावा इस विषय के बारे में आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं।

FAQ

राजा जनक कौन जाति के थे?

महाराज जनक एक सूर्यवंशी राजा थे। इसलिए उनकी जाति क्षत्रिय है।

जनक जी के पिता कौन थे?

जनक मिथिला के राजा और निमि के पुत्र थे

Leave a comment