यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं

नमस्कार दोस्तो, यदि आप विज्ञान विषय के अंतर्गत अपनी रूचि रखते हैं, या फिर विज्ञान विषय को पढ़ते हैं, तो आपने यौगिक के बारे में तो जरूर सुना होगा। दोस्तों क्या आप जानते हैं, कि यौगिक किसे कहते हैं, यौगिक के कितने प्रकार होते हैं। यदि आपको इस विषय के बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इसके बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताने वाले हैं, कि यौगिक किसे कहते हैं, यौगिक के कितने प्रकार होते हैं, इसके अलावा हम आपको इस विषय से जुड़ी हर एक जानकारी इस पोस्ट में देने वाले हैं।

यौगिक किसे कहते हैं? | yogik kise kahate hain

अगर बात की जाएगी भी यौगिक किसे कहते हैं तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि दो या दो से अधिक तत्व तथा पदार्थ जब एक निश्चित अनुपात में रासायनिक अभिक्रिया करके रासायनिक बंधो के द्वारा आपस में मिलाकर एक नए पदार्थ का निर्माण करते हैं, तो उसने पदार्थ को यौगिक कहा जाता है।

इसको अगर आसान भाषा में समझा जाए तो जब कोई दो या दो से अधिक पदार्थ आपस में मिलकर रासायनिक अभिक्रिया करते हैं, और वह एक नए पदार्थ का निर्माण कर लेते हैं, जिसको यौगिक कहा जाता है।

यौगिक की के अंतर्गत नेतृत्व एक निश्चित अनुपात में रासायनिक बंध व रासायनिक क्रिया के द्वारा जुड़े हुए रहते हैं। और उसके बाद यौगिक का एक सूत्र लिखा जाता है।

उदाहरण के लिए जल के निर्माण में हाइड्रोजन के दो परमाणु, तथा ऑक्सीजन की एक प्रमाण आपस में बंद के साथ जुड़े रहते हैं। जल के अंतर्गत हाइड्रोजन के दो अणु होते हैं, तथा ऑक्सीजन के 1 अणु होते हैं, इसी कारण इसका रासायनिक सूत्र H2O होता है।

यौगिक के प्रकार | yogic kitne prakar ke hote hain

यौगिक को कुल 2 भागों के अंतर्गत बांटा गया है :-

  1. कार्बनिक यौगिक
  2. अकार्बनिक यौगिक

1. कार्बनिक यौगिक

कार्बन तथा हाइड्रोजन की व्युत्पन से बने हुए यौगिक को कार्बनिक योगिक कहा जाता है। कार्बनिक योगिक के अंतर्गत हाइड्रोजन तथा कार्बन को छोड़कर अन्य कोई भी तत्व या अणु की हिस्सेदारी नहीं होती है।

2. अकार्बनिक योगिक

हाइड्रोजन तथा कार्बन को छोड़कर अन्य किसी भी तत्व से बने हुए यौगिक को अकार्बनिक योगिक कहा जाता है। इनके अंतर्गत हाइड्रोजन तथा कार्बन को छोड़कर अन्य कोई भी तत्व हिस्सा ले सकता है।

योगिक का सूत्र

दोस्तों प्रत्येक यौगिक का एक अलग सूत्र होता है। किसी भी यौगिक का सूत्र उसके अंतर्गत उपस्थित अणु तथा तत्वों की संख्या के अनुसार बनाया जाता है। जैसे कि जल के अंतर्गत हाइड्रोजन की 2 अणु होते हैं, तथा ऑक्सीजन का एक अणु होता है, इसी कारण जल का सूत्र H2O होता है।

यौगिक की विशेषताएं | yogic ki visheshta

यौगिक की प्रमुख विशेषताएं निम्न प्रकार से है:-

  • यौगिक अलग अलग तत्वो की एक निश्चित अनुपात के सहयोग से बनते हैं यानी कि यौगिक के अंतर्गत उपस्थित सभी तत्वों तथा अणुओं का अनुपात निश्चित होता है।
  • योगिक के निर्माण में प्रकाश, उस्मा, विद्युत आदि का अवशोषण तथा निष्कासन भी होता है।
  • दोस्तों प्रत्येक योगिक हमेशा शुद्ध तथा समांगी पदार्थ होता है।
  • यौगिक का एक निश्चित गलनांक तथा क्वथनांक होता है। यौगिक के गलनांक तथा क्वथनांक उसके अंतर्गत हिस्सा ले रहे तत्वों के गलनांक तथा क्वथनांक पर निर्भर नहीं करते हैं, प्रत्येक यौगिक का अपना एक अलग गलनाक तथा क्वथनांक होता है।
  • किसी भी यौगिक के अंतर्गत पाए जाने वाले गुण उसके अंतर्गत हिस्सा ले रहे तत्वों के गुणों से अलग होते हैं।
  • यौगिक के अमीरों का साधारण भौतिक विधियों के द्वारा विभाजन नहीं किया जा सकता है, क्योंकि यह काफी प्रबल बंधुओं से आपस में जुड़े रहते हैं।

Also read:

दिल्ली की राजधानी क्या है? दिल्ली में कुल कितनी तहसील है?
दिल्ली में कितने एयरपोर्ट है? दिल्ली कितना पुराना शहर है?
दिल्ली का पुराना नाम क्या है? दिल्ली का अंतिम हिंदू राजा कौन था?
दिल्ली में कुल कितने जिले हैं? दिल्ली की खोज किसने की थी?

निष्कर्ष

तो इस पोस्ट के अंतर्गत हमने आपको बताया कि यौगिक किसे कहते हैं, यौगिक को कितने भागों के अंतर्गत बांटा गया है, इसके अलावा इस विषय से जुड़ी अन्य जानकारी अभी हमने आपके साथ शेयर की है। हमें उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई है, फिर तो आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है।

FAQ

यौगिक और मिश्रण में क्या अंतर है?

मिश्रण का संघटन अनिश्चित होता है, अर्थात इसमें शामिल घटक किसी भी अनुपात में हो सकते हैं। यौगिक का संघटन निश्चित होता है। एक यौगिक में शामिल तत्व द्रव्यमान के एक निश्चित अनुपात में होते हैं। मिश्रण का गलनांक, क्वथनांक और घनत्व आदि निश्चित नहीं होते हैं।

यौगिक कैसे बनते हैं?

जब दो या दो से अधिक तत्व रासायनिक अभिक्रिया द्वारा संयुक्त होते हैं तो यौगिक बनता है। तत्वों और सरल यौगिकों से जुड़ी प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला से प्रोटीन जैसे जटिल अणु बनते हैं।

यौगिक मिलकर क्या बनाते हैं?

यौगिकों के अणु दो या दो से अधिक विभिन्न प्रकार के परमाणुओं से सघन रूप से भरे होते हैं। उदाहरण के लिए, पानी का एक अणु हाइड्रोजन के दो परमाणुओं और ऑक्सीजन के एक परमाणु से मिलकर बना होता है। यौगिकों के गुण हमेशा उनके घटक तत्वों के गुणों से भिन्न होते हैं, जैसे हाइड्रोजन और ऑक्सीजन सामान्य तापमान पर गैसें होती हैं जबकि इनसे बना पानी तरल होता है।

HomepageClick Hear