जापान में आधुनिकरण के क्या कारण थे?

जापान में आधुनिकरण के क्या कारण थे?

नमस्कार दोस्तों, पूरे विश्व के अंतर्गत आधुनिकरण ने इस दुनिया के नक्शे को ही बदल कर रख दिया था। और आधुनिकरण का सबसे ज्यादा प्रभाव जापान के अंतर्गत देखने को मिला था। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि जापान में आधुनिकीकरण के क्या कारण थे, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि जापान में आधुनिकरण के क्या कारण थे, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

जापान में आधुनिकरण के क्या कारण थे? (japan ke adhunik karan ka karan kya tha)

दोस्तों जापान के अंतर्गत आधुनिकरण का सबसे ज्यादा प्रभाव देखने को मिला था, उसके बाद जापान ने अलग-अलग क्षेत्रों के अंतर्गत काफी तरक्की की थी। जापान के अंतर्गत आधुनिकरण के प्रमुख कारण दिन थे:-

जापान में आधुनिकरण के क्या कारण थे? (japan ke adhunik karan ka karan kya tha)

1. जापान के अंतर्गत सेना के अंदर काफी ज्यादा आधुनिकरण देखने को मिला था, जिसमें सेना के लिए अलग-अलग नई टेक्नोलॉजी के हत्यारों को तैयार किया जाने लगा था। जिसके पीछे का मुख्य कारण यह था कि जापान अपने आप को सैन्य स्तर पर विश्व के अंतर्गत काफी मजबूत करना चाहता था, तथा भविष्य पर सैनी तत्वों की बदौलत अपना एक का जमाना चाहता था। इसके लिए जापान के अंतर्गत अलग-अलग प्रकार की मिसाइलों, तोपों, हथियारों का निर्माण किया जाने लगा था।

2. इसके बाद जापान के अंतर्गत शिक्षा क्षेत्र के अंतर्गत भी काफी आधुनिकरण देखने को मिला था, जिसमें लाखों की संख्या के अंतर्गत जापान के छात्र अपनी शिक्षा प्राप्त करने के लिए अमेरिका तथा यूरोपीय देशों के अंतर्गत आ गए थे। उसके बाद उन्होंने यहां पर शिक्षा प्राप्त करके अपने देश के अंतर्गत जाकर एक क्रांति उत्पन्न कर दी थी। अमेरिका तथा यूरोप से शिक्षा लेकर जापानी छात्रों ने अपने देश के अंतर्गत जाकर काफी ज्यादा ग्रो किया था, तथा इससे जापान को अलग-अलग क्षेत्रों के अंतर्गत आगे बढ़ने में भी काफी मदद मिली थे।

3. इसके बाद जापान के अंतर्गत औद्योगिक क्षेत्र के अंतर्गत भी काफी आधुनिकरण देखने को मिला था, जिसमें 19वीं शताब्दी के मध्य तक जापान के अंतर्गत अलग-अलग नए उद्योगों की स्थापना होने लगी थी। जापान के अंतर्गत मे जी की सरकार ने आधुनिकरण पर काफी जोर दिया था, और इस कार्यकाल के अंतर्गत जापान में भाप के इंजन का आविष्कार हुआ था, इन्हीं सबके अलावा इस दौर के अंतर्गत भाप के इंजन जैसे अलग-अलग चीजों का आविष्कार भी जापान के अंतर्गत किया गया था।

4. इन सब से स्पष्ट है कि मीजी की पुनर्स्थापना के बाद जापानी जीवन का कायापलट हुआ। खाने-पीने, रहने, पहनने, कपड़े पहनने, सोचने और सोचने और राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन की सभी गतिविधियों में तेजी से बदलाव आया और एक आधुनिक देश के रूप में जापान ने विश्व मंच पर प्रवेश किया। जापान के इस आधुनिकीकरण के महत्वपूर्ण परिणाम हुए। जिस समय पश्चिमी देशों ने जबरन जापान के दरवाजे खोले, उस समय जापान को कई असमान संधियों पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिसके परिणामस्वरूप जापान की संप्रभुता नगण्य रही। औद्योगीकरण के परिणामस्वरूप जापान अब एक शक्तिशाली राष्ट्र बन गया था। यह किसी भी क्षेत्र में किसी पश्चिमी देश से कम नहीं था।

ऐसे में जापान ने अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस आदि देशों से असमान संधियों को रद्द करने और समानता के स्तर पर एक और संधि करने का अनुरोध किया। जापान ने विशेष रूप से क्षेत्रीय अधिकार को समाप्त करने की मांग की। पश्चिमी देश अब जापान ने विशेष रूप से अलौकिक अधिकार के उन्मूलन की मांग की। पश्चिमी देश अब जापान की इन मांगों की उपेक्षा नहीं कर सकते थे, क्योंकि जापान अब काफी शक्तिशाली हो चुका था। इसलिए, उन सभी असमान संधियों में संशोधन किया गया और जापान में विदेशियों के सभी विशेषाधिकार समाप्त कर दिए गए। पाश्चात्य जीवन शैली को अपनाते हुए जापान जिस गति से इस समय सभी क्षेत्रों में प्रगति कर रहा था,

जिसके फलस्वरूप वह पूरी तरह से पश्चिमी देशों के बराबर हो गया और अब पश्चिमी देशों के लिए उसके साथ वैसा व्यवहार करना संभव नहीं है जैसा चीन और चीन। अन्य एशियाई देशों के साथ। आधुनिकीकरण का एक महत्वपूर्ण परिणाम जापानी साम्राज्यवाद का विकास था। सैन्य दृष्टि से जापान पश्चिमी देशों के बराबर हो गया, इसलिए यह स्वाभाविक था कि वह यूरोपीय राज्यों और अमेरिका का भी अनुसरण करे और साम्राज्यवाद के मार्ग पर चले।

तो दोस्तों जापान के अंतर्गत आधुनिकरण के प्रमुख कारण यह थे। इसके अलावा भी जापान में आधुनिकरण के कई कारण थे, लेकिन हमने आपको यहां पर कुछ महत्वपूर्ण कारणों के बारे में जानकारी दी है।

Also read:

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि जापान के अंतर्गत औद्योगिकीकरण के मुख्य कारण क्या थे, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत Japan ke audyogikaran से जुड़ी कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी शेयर की है, जैसे कि जापान में औद्योगीकरण क्यों शुरू हुआ था, अलग-अलग क्षेत्रों के अंतर्गत जापान में औद्योगीकरण के समय क्या-क्या आविष्कार किए थे, इसके अलावा इस आधुनिकरण के पीछे के मुख्य कारण क्या थे।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

जापान का आधुनिकीकरण कब हुआ?

मीजी बहाली उन्नीसवीं सदी के जापान में एक घटना थी जिसने 1868 में सम्राट के शासन को बहाल किया। इससे जापान के राजनीतिक और सामाजिक वातावरण में बहुत महत्वपूर्ण बदलाव आए, जिसके कारण जापान तेजी से आर्थिक, औद्योगिक और सैन्य विकास की ओर बढ़ने लगा।

जापानी आधुनिकीकरण का मुख्य लक्ष्य क्या था?

उन्नीसवीं सदी के अंत तक, जापान एक एकीकृत, आधुनिक राष्ट्र बनाने के लिए समर्पित था। उनके लक्ष्यों में सम्राट के लिए सम्मान पैदा करना, पूरे जापानी राष्ट्र में सार्वभौमिक शिक्षा की आवश्यकता और अंत में सैन्य सेवा का विशेषाधिकार और महत्व शामिल था।

आधुनिकीकरण का अर्थ क्या है?

आधुनिकीकरण अर्थ हिंदी में आधुनिक समाज में बढ़ते हुए परिवर्तनों का प्रतिनिधित्व करने का कार्य करता है। यह वह प्रणाली है जिसके तहत उद्योग और शहरीकरण को बढ़ावा देने का कार्य किया जाता है। यह तकनीकी विकास पर भी जोर देता है। यह एक सतत प्रक्रिया है।

आधुनिकीकरण के कारण क्या है?

आधुनिकीकरण के कारण भारत में पश्चिमीकरण तेजी से हो रहा है। भारत में पश्चिमीकरण का प्रभाव सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक, शिक्षा आदि सभी क्षेत्रों में देखा जा सकता है। भारत में शहरीकरण तेजी से हो रहा है। शहरीकरण की इस प्रक्रिया से ग्रामीण जीवन भी प्रभावित हुआ है।