केतु ग्रह के मंत्र एवं उपाय | ketu mantra jaap in hindi

नमस्कार दोस्तो, यदि आप शास्त्रों के अंतर्गत विश्वास रखते हैं तथा शास्त्रों से जुड़ी जानकारी लगातार प्राप्त करना चाहते हैं तो आपने केतु ग्रह के बारे में तो जरूर सुना होगा। दोस्तों क्या आप जानते हैं, कि केतु ग्रह के मंत्र एवं उपाय क्या-क्या होते हैं। यदि आपको इस विषय के बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इसके बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताने वाले हैं, कि केतु ग्रह के मंत्र एवं उपाय क्या-क्या होते हैं, इसके अलावा हम आपको इस विषय से जुड़ी हर एक जानकारी इस पोस्ट में देने वाले हैं।

केतु ग्रह के मंत्र एवं उपाय

दोस्तों केतु ग्रह के मंत्र तथा उपाय के बारे में हर एक व्यक्ति को जानना जरूरी होता है, जो भी शास्त्रों के अंतर्गत विश्वास रखता है :-

केतु ग्रह का पौराणिक मंत्र

ॐ पलाशपुष्पसंकाशं तारकाग्रहमस्तकम्।

रौद्रं रौद्रात्मकं घोरं तं केतुं प्रणमाम्यहम्।।

जप संख्या: 17000

केतु ग्रह का गायत्री मंत्र

ॐ गदाहस्ताय विद्महे अमृतेशाय धीमहि तन्नो केतुः प्रचोदयात् ।।

जप संख्या: 17000

केतु ग्रह का वैदिक मंत्र

ॐ केतुं कृण्वन्न केतवे पेशो मर्या अपनयशसे।

समुषद्भिरजायथाः।।

जप संख्या_ 17000

केतु ग्रह का बीज मंत्र

ketu mantra jaap benefits

—————————-

ॐ स्रां स्रीं स्रौं सः केतवे नमः।।

जप संख्या_17000

समय: शुक्लपक्ष मंगलवार

केतु ग्रह तांत्रिक मंत्र

ॐ कें केतवे नमः

जप संख्या_ 17000

केतु ग्रह पूजा मंत्र

ॐ कें केतवे नमः

जप संख्या_ 17000

—————————-

यह मंत्र बोलते हुए देव ग्रह केतु एवं केतु यंत्र की पूजा करनी चाहिए।

विनियोग मंत्र:-

अस्य श्रीकेतु पंचविंशतिनामस्तोत्रस्य मधु छन्द विछ्न्दो केतुर्देवता केतुप्रित्यर्थे पाठे विनियोगः।

अब हाथ में लिया हुआ जल धरती पर छोड़ दें और भक्ति पूर्वक पाठ करें।

केतु स्तोत्र:-

—————————-

केतु: काल: कलयिता धूम्रकेतुर्विवर्णक:।

लोककेतु महाकेतु: सर्वकेतुर्भयप्रद: ।।1।।

रौद्रो रूद्रप्रियो रूद्र: क्रूरकर्मा सुगन्ध्रक्।

फलाश-धूम-संकाशश्चित्र-यज्ञोपवीतधृक् ।।2।।

तारागणविमर्दो च जैमिनेयो ग्रहाधिप:।

पंचविंशति नामानि केतुर्य: सततं पठेत् ।।3।।

तस्य नश्यंति बाधाश्च सर्वा: केतुप्रसादत:।

धनधान्यपशूनां च भवेद् व्रद्विर्न संशय: ।।4।।

।। इति शुभम्।।

—————————-

केतु देव की स्तुति

—————————-

जय श्री केतु कठिन दुखहारी,

करहु सुजन हित मंगलकारी ।

ध्वजयुत रुण्ड रूप विकराला,

घोर रौद्रतन अघमन काला ।

शिखी तारिका ग्रह बलवान,

महा प्रताप न तेज ठिकाना ।

वाहन मीन महा शुभकारी,

दीजै शान्ति दया उर धारी ।

—————————-

केतु ग्रह के कुंडली में शुभ होने की स्थिति पर

यदि आपकी कुंडली के अंतर्गत केतु ग्रह शुभ होने की स्थिति पर होता है, तो आपको निम्न कार्य करनी चाहिए :-

  • इस स्थिति में यदि आप मंगलवार के दिन गणेश जी को लड्डू का भोग लगाते हैं, तो इससे आपको काफी अच्छे शुभ फल प्राप्त होते हैं।
  • शंकर चतुर्थी का व्रत करना भी इस परिस्थिति के अंतर्गत काफी शुभ माना जाता है।
  • इसके अलावा यदि आपकी जन्मकुंडली के अंतर्गत केतु बलवान होता है, तो ऐसे में आपको लहसुनिया रत्न पंचधातु के जड़वा कर सीधे हाथ की अनामिका उंगली में धारण करने से केतु का बल बढ़ जाता है।
  • बटुक भैरव की उपासना करनी चाहिए।
  • अपने घर के अंतर्गत तांबे के नाग देवताओं को स्थान देना चाहिए और उनकी पूजा करनी चाहिए।
  • घर के अंतर्गत हाथी दांत की कोई भी वस्तु रख सकते हैं।
  • स्टील अथवा लोहे से बनी कोई भी नागा कार की आकृति वाली अंगूठी धारण कर सकते हैं।
  • आप अपने घर के आस-पास यदि कोई जगह हो, तो वहां अपने हाथों से एक नीम का पेड़ लगा सकते हैं।
  • अपने घर के अंतर्गत एक बोरी रंग का कुत्ता पाले और रोज उसको अपने हाथों से खाना खिलाएं।

केतु ग्रह की कुंडली में अशुभ होने पर

इसके अलावा यदि आपकी कुंडली के अंतर्गत केतु ग्रह अशुभ होता है, तो आपको निम्न कार्य करने चाहिए

  • काले और सफेद रंग की कंबल गरीबों के अंतर्गत या फिर आप मंदिरों के अंतर्गत दान कर सकते हैं।
  • ऐसी परिस्थिति के अंतर्गत आपको सफेद तिल तथा काले तिल को सफेद कपड़े के अंतर्गत बांधकर बहते हुए जल में प्रभावित करना चाहिए।
  • घर में नीति गूगल की धूप देनी चाहिए।
  • इसके अलावा आपको रंग बिरंगी गाय की सेवा करनी चाहिए, एवं रंग बिरंगी कुत्ते को दो तथा रोटी खिलानी चाहिए, इसके अलावा आप अपने घर के अंतर्गत कुत्ता पाल भी सकते हैं।
  • श्रवण मास के अंतर्गत आपको अपने घर के अंतर्गत रुद्राभिषेक जरूर से करवाना होता है।
  • इसके अलावा आपको युवा लोगों को काफी खट्टी चीजें खिलानी चाहिए।

Also read:

उन देशों के नाम जिनका क्षेत्रफल भारत से बड़े हैं? साइमन कमीशन भारत कब आया 
भारत का संविधान कितने पेज का है? भाबर क्या है? और भाभर की विशेषताएं क्या है?
नगर निगम के प्रमुख को क्या कहते हैं? काला नमक और सेंधा नमक के बीच में क्या अंतर है?
भारत में मुसलमानों की जनसंख्या कितनी है? कैबिनेट मिशन भारत कब आया था?

निष्कर्ष

तो इस पोस्ट के अंतर्गत हमने आपको बताया कि केतु ग्रह के मंत्र एवं उपाय क्या होते है, इसके अलावा इस विषय से जुड़ी अन्य जानकारी अभी हमने आपके साथ शेयर की है। हमें उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई है, फिर तो आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है।

Leave a comment