नेपाल का राष्ट्रीय खेल कौन सा है? | national game of nepal

दोस्तों, यदि आप Competitive Exams की तैयारी करते हैं तो आपको पता होगा कि Competitive Exams में Foreign Affairs and International News की कितनी Value होती है। इसलिए हमें हमारे पड़ोसी देशों के बारे में कुछ बातें जरूर जानना चाहिए। इसकी शुरुआत हम नेपाल से कर सकते हैं।

इसीलिए आज हम जानेंगे कि नेपाल देश कब बना, नेपाल की संस्कृति क्या है, nepal ka rashtriya khel kya hai क्या है, नेपाल का राष्ट्रीय पशु क्या है, नेपाल का राष्ट्रीय पक्षी क्या है, नेपाल का ध्वज कौन सा है, नेपाल के बारे में आज आपको सारी जानकारी करवाने की कोशिश करेंगे।

चलिए शुरू करते हैं:-

नेपाल कब बना? | When Nepal Formed?

दोस्तों, नेपाल भारत के पूर्व दिशा में स्थित एक संघीय लोकतांत्रिक देश है, इसके दक्षिण पूर्व तथा पश्चिम में भारत स्थित है। भारत की 81% आबादी हिंदू धर्म से संबंध रखती है। यदि प्रतिशत के हिसाब से बात की जाए तो यह विश्व का सबसे बड़ा हिंदू जनसंख्या वाला देश है, जिसमें 81% हिंदू रहते हैं।

नेपाल की राज्य भाषा व इनकी मातृभाषा नेपाली है, और नेपाल के लोगों को भी आमतौर पर नेपाली ही कहा जाता है। सन 1900 के दशक में हिमालय के मध्य भाग की ओर 46 से भी ज्यादा अलग अलग राज्य हुआ करते थे, जिन्हें राजा पृथ्वी नारायण शाह नामक एक राजा ने एकत्र करके नेपाल बना दिया। सन 1904 में अंग्रेजों ने भी नेपाल देश के पहाड़ी राज्यों से समझौता करके नेपाल को एक अलग राज्य का दर्जा प्रदान किया था।

जब सन 1947 में भारत ब्रिटिश साम्राज्य की गुलामी से आजाद हुआ था, उस समय भारत की कई रियासतों को यह अधिकार था कि वह या तो भारत से मिल जाए या पाकिस्तान से मिल जाए या एक अलग देश के रूप में अपना अस्तित्व कायम करें। उसी समय नेपाल ने भी अपने आपको एक अलग देश रखने का ही फैसला किया।

नेपाल का राष्ट्रीय खेल कौन सा है? | nepal ka rashtriya khel kaun sa hai

nepal ka rashtriya khel kaun sa hai
nepal ka rashtriya khel kaun sa hai

मित्रों नेपाल के लोगों को आम तौर पर Volleyball (वालीबॉल) खेलना बहुत पसंद है, और 23 मई 2017 को नेपाल में वॉलीबॉल को नेपाल का राष्ट्रीय खेल घोषित किया गया था।

नेपाल का इतिहास | History of Nepal

nepal ka rashtriya khel kya hai
नेपाल का राष्ट्रीय खेल क्या है? | nepal ka rastriya khel

लोगों का बसना

मित्रों, नेपाल हिमालय की गोद में बसा हुआ है। हिमालय पर 9000 वर्षों से भी पूर्व मानव इतिहास पाया गया है, जिसकी पुष्टि नवपाषाण युग के हजारों से हुई है। तिब्बती लोग तकरीबन आज से 2500 वर्ष पूर्व हिमालय की गोद में बसे हुए नेपाल की भूमि पर आ चुके थे। उस समय नेपाल कोई राज्य नहीं था लेकिन काठमांडू नाम की एक जगह जरूर थी।

इसके बाद तकरीबन आज से 1500 साल पहले हिमालय की भूमि पर उत्तर की ओर से अर्थात भारत की भूमि से कई लोग हिमालय के भूमि पर प्रवेश कर गए, और तकरीबन 1000 ईसा पूर्व तक कई छोटे-छोटे राज्य और राज्यों के संगठन बनने लगे।

पौराणिक कथाओं का सन्दर्भ

ऐसा कहा जाता है कि तकरीबन आज से 5500 वर्ष पूर्व महाभारत काल में जब कुंती के पांचों पुत्र स्वर्ग लोक की ओर जा रहे थे, तब भीम ने भगवान शिव को दर्शन देने के लिए विनती की और तभी भगवान शिव जी ने एक आत्मलिंग के रूप में पांडवों को दर्शन दिए, और तभी वहां से पशुपतिनाथ नाम का ज्योतिर्लिंग स्थापित हुआ।

ऐसा माना जाता है कि भगवान राम की पत्नी माता सीता जी (जानकी) का जन्म जनकपुरी में हुआ था और जनकपुरी उस समय नेपाल को ही माना जाता था। सिद्धार्थ गौतम का जन्म भी तकरीबन 550 ईसा पूर्व पहले शाक्य वंश में हुआ था। शाक्य वंश के लोग नेपाल के लुंबिनी में पाए जाते हैं।

सिद्धार्थ वही पैदा हुए और सिद्धार्थ गौतम ही महात्मा बुद्ध / भगवान बुद्ध कहलाए थे।

आधुनिक समय का सन्दर्भ

आधुनिक भारत में आधुनिक काल में गोपाल वंश नेपालमा नेपाल पर राज करने वाले पहले राजा बने थे। इन्होंने पांचवी शताब्दी की शुरुआत नेपाल पर राज किया था , और लिच्छवी वंश की स्थापना की। लेकिन तकरीबन 200 वर्ष बाद ही लिच्छवी वंश का अंत हो गया।

इसके पश्चात नेपाल की भूमि पर चालुक्य साम्राज्य की स्थापना हुई, और बाद में कई राजाओं ने बौद्ध धर्म छोड़कर हिंदू धर्म को अपनाया और धार्मिक परिवर्तन की एक नई लहर नेपाल की भूमि पर चलने लगी।

नेपाल की भूमि पर संस्कृत एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण भाषा बनी थी, इसके पश्चात 1482 तक नेपाल मूल रूप से तीन भागों में विभाजित हो गया, जिसे कांतिपुर, ललितपुर। और भरतपुर के नाम से जाना जाने लगा। सन 1765 तक गोरखा जिसका नाम पृथ्वी नारायण शाह था, उन्होंने नेपाल को एकीकृत किया जिसके लिए उन्होंने तकरीबन 46 से भी अधिक छोटे-बड़े राज्यों को एकत्र करके संपूर्ण नेपाल का निर्माण किया।

नेपाल का राष्ट्रीय फल क्या है? | Nepal ka rashtriya Friut kya hai

दोस्तों नेपाल का राष्ट्रीय फल रास्पबेरी ,है इसे आम भाषा में रसभरी भी कहा जाता है। यह स्ट्रॉबेरी की तरह दिखता है लेकिन आमतौर पर इसका रंग गुलाबी रंग का होता है।

नेपाल का राष्ट्रीय फूल क्या है? | Nepal ka rashtriya phool kya hai

नेपाल का राष्ट्रीय पुष्प लाली गुरांश है। यह एक बड़ा वो होता है जो देखने में काफी सुंदर होता है। यह पहाड़ों पर पाया जाता है। हिमालय की गोद में इसे पाना इतना मुश्किल भी नहीं होता है।

नेपाल का राष्ट्रीय पशु क्या है? | Nepal ka rashtriya pashu kya hai

नेपाल का राष्ट्रीय पशु गाय है। गाय एक दुधारू पशु है, और गाय का हिंदू धर्म में अत्यंत ही महान योगदान है और हिंदू धर्म में इसकी विशेषता अतुलनीय है।

नेपाल का राष्ट्रीय पक्षी क्या है? | nepal ka rashtriya pakshi kya hai

नेपाल का राष्ट्रीय पक्षी डांफे है। यह पक्षी दिखने में काफी सुंदर होता है, यह बड़े आकार का पक्षी होता है जो लगभग मोर के जैसा दिखता है।

नेपाल का राष्ट्रीय रंग क्या है? | nepal ka rashtriya colour kya hai

नेपाल का राष्ट्रीय रंग गहरा लाल रंग है। यह गहरे लाल रंग वीरता को प्रदर्शित करता है, क्योंकि यह लाल रंग के रक्त का रंग भी होता है।

निष्कर्ष

दोस्तों, आज के लेख में हम ने जाना कि nepal ka rashtriya khel hai. साथ ही साथ हमने आपको नेपाल के बारे में लगभग सारी जानकारी उपलब्ध कराई है। हम आशा करते हैं कि आपको यह लेख पढ़ने के पश्चात नेपाल के बारे में बेसिक जानकारी जानने के लिए किसी भी अन्य लेख को पढ़ने की आवश्यकता नहीं होगी।

यदि जानकारी पसंद आई हो तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। यदि आप कुछ सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

FAQ

नेपाल में सबसे लोकप्रिय खेल कौन सा है?

नेपाल में खेला जाने वाला सबसे आम खेल क्रिकेट है जिसके बाद फुटबॉल है।

नेपाल में कितने खेल हैं?

नेपाल मुश्किल से 50 अलग-अलग खेल खेलता है, लेकिन लगभग 200 खेल संघों की मेजबानी करता है।

नेपाल कौन से देश में आता है?

नेपाल भारतीय उपमहाद्वीप में स्थित एक देश है, जिसकी सीमा भारत और चीन से लगती है। इसमें दुनिया के 10 सबसे बड़े पहाड़ों में से 8 बड़े पहाड़ हैं। इसके पास दुनिया का सबसे बड़ा पर्वत माउंट एवरेस्ट भी है। यह बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध का जन्म स्थान है।

क्या नेपाल सबसे गरीब देश है

नेपाल दुनिया के सबसे अधिक आपदा प्रवण देशों में से एक है। यह एक और कारण है कि नेपाल दुनिया के सबसे गरीब देशों में से एक है। मानसून के दौरान गंभीर मौसम की स्थिति, बाढ़ और भूस्खलन हर साल हजारों लोगों को प्रभावित करते हैं। सबसे गरीब लोग अक्सर सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं।

HomepageClick Hear