भारत का राष्ट्रीय भोजन क्या है? | national food of India?

भारत का राष्ट्रीय भोजन क्या है? | national food of India?

दोस्तों, भारत खाने के देश के लिए जाना जाता है। यहां पर अनेकों प्रकार के पकवान बनाए जाते हैं। जिनमें मिठाईयां, चटपटे  भोजन ,सभी के पसंदीदा होते हैं। आमतौर पर भारत के हर राज्य में उनकी संस्कृति के अनुसार और उनके रहन-सहन के अनुसार विशेष खाने तथा मिठाइयां बनती है।

ऐसे में भारतके लिए किसी एक राष्ट्रीय पोषण का चुनाव करना अत्यंत मुश्किल होता है। भारत सरकार ने एक सर्वे के द्वारा यह प्रतिपादित किया कि Bharat Ka Rashtriya Bhojan क्या होना चाहिए।

क्या आप जानते हैं Bharat ka rashtriya bhojan kya hai? यदि आप नहीं जानते तो कोई बात नहीं क्योंकि आज हम आपको बताने वाले हैं कि भारत का राष्ट्रीय भोजन क्या है, इसके मापदंड क्या है, उसे राष्ट्रीय भोजन क्यों घोषित किया गया, उसकी लोकप्रियता कितनी है।

इन सभी के पश्चात हम आप को पूर्ण रूप से बता पाएंगे कि हमारा राष्ट्रीय भोजन कितना महत्वपूर्ण है। तो चलिए शुरू करते हैं

भारत का राष्ट्रीय भोजन क्या है? | Bharat Ka Rashtriya Bhojan Kya Hai?

भारत “विविधता में एकता” का देश है, अर्थात सभी राज्यों में अलग अलग तरह के पकवान प्रचलित हैं। लेकिन फिर भी भारत का राष्ट्रीय भोजन एक है। भारत के लोग उस भोजन के दीवाने भी है ओर मस्ताने भी है।

जो दुनिया भर में खाया जाता है। ओर इसे खूब पसंद भी किया जाता है। कोई नापसंद, ऐसा ही एक व्यंजन है खिचड़ी, और इसको भारत में ही नहीं बल्कि पुरे विश्व में शोक से खाया जाता है।

भारत में किए गए एक सर्वेक्षण में, लोगो ने विभिन्न भोजन के लिए मतदान किया। यह इंगित करता है, कि कोई भी एक विशिष्ट पकवान पर सहमत नहीं हुआ है। यदि एक भोजन को राष्ट्रीय व्यंजन के रूप में नामित किया जाता है, तो अन्य क्षेत्र जो उस भोजन को नहीं खाते हैं, निस्संदेह बाहर रखा जाएगा।

विभिन्न भारतीयों के अलग-अलग विचार हैं कि राष्ट्रीय व्यंजन क्या होना चाहिए। इसकी लोकप्रियता के बावजूद, खिचड़ी भारत के राष्ट्रीय व्यंजनों की तुलना में अधिक आरामदायक ओर लाभदायक भोजन है।

राष्ट्रीय भोजन चुनना इतना कठिन क्यों है?

Bharat Ka Rashtriya Bhojan Kya Hai?

भारतीय के व्यंजनों में कई प्रकार के व्यंजन हैं। संस्कृति, धर्म और सामाजिक वर्ग की दृष्टि से सभी भोजन को प्रभावित करते हैं। दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक के राष्ट्रीय भोजन के रूप में एक विशिष्ट भोजन की पहचान करना असंभव और मुश्किल होगा।

देश की विविधता के कारण, विभिन्न क्षेत्रों और पृष्ठभूमि के लोग दूसरों पर विशिष्ट भोजन पसंद करते हैं। इस बात में भी सच्चाई है कि भारत के स्थानीय भोजन पूरे विश्व में काफी प्रसिद्द है, विश्व के कुछ नामचीन शहरीं में भारतीय खाने काफी मशहूर है।

समुद्री भोजन तटीय क्षेत्रों में लोकप्रिय है, जबकि पशु और वसायुक्त खाद्य पदार्थ उच्चभूमि क्षेत्रों में लोकप्रिय हैं, और मसालेदार भोजन भूमध्यरेखीय क्षेत्र में पसंद करते हैं। लेकिन खिचड़ी (khichdi) हर क्षैत्र में, हालांकि पुरे विश्व में लोकप्रिय है।

क्या भारत का राष्ट्रीय पकवान खिचड़ी है?

भारत में Khichdi अपनी लोकप्रियता के कारण राष्ट्रीय एकता और विविधता का प्रतीक बन गई है, और अधिकांश भारतीय व्यंजन खिचड़ी से परिचित हैं।

इन विशेषताओं के साथ, भोजन की लोकप्रियता भारत के सबसे लोकप्रिय व्यंजनों की सूची में सबसे ऊपर बनी हुई है। बंगाली धार्मिक छुट्टियों के दौरान देवी दुर्गा को खिचड़ी अर्पित करते हैं। यह लोगों के लिए भोजन के पवित्र महत्व को प्रदर्शित करता है। इसको पावन-पर्वो पर भी बहुत महत्व मिलता है।

खिचड़ी को भारत का राष्ट्रीय भोजन क्यों घोषित किया गया?

खिचड़ी को राष्ट्रीय भोजन का दर्जा देने में शायद सभी दल, सभी राज्य, और सम्पूर्ण भारतवासी एकमत हो सकते है। क्योंकि खिचड़ी है ही ऐसी, जो हमारे खाने में एक मुख्य व्यंजन के रूप में शायद हर राज्य में मामूली फेरबदल के साथ बनायी और बड़े चाव से खायी जाती है।

खिचड़ी लोक जीवन में ऐसी बसी है कि हम खाने के अलावा बोलचाल, मुहावरों में इसका कई बार उपयोग करते है। भारत में अनेक धर्म, भाषा, रंग, सम्प्रदाय के लोग होने के बाद भी सब खिचड़ी की तरह घुले मिले है।

सब की अपनी अलग पहचान होने के बाद एक समग्र पहचान भारतीय के रूप में ही होती है, ठीक खिचड़ी की ही तरह चावल कामन है, दालें खिचड़ी के प्रकार के अनुरूप बदल जाती हैं।

पर स्वाद लगभग एक सा ही रहता है। न पकाने में कोई झंझट न खाने में कोई झंझट। उसको जाना भी खिचड़ी के नाम से जाता है।

खिचड़ी की लोकप्रियता:-

खिचड़ी एक बड़ी संख्या में भारत के लोगों द्वारा मान्यता प्राप्त भोजन है। इसे अमीर और गरीब दोनों द्वारा बड़े ही प्रेम से खाया जाता है। विभिन्न सामाजिक-आर्थिक स्थिति से संबंधित लोग विनम्रता का आनंद लेते हैं।

ये भोजन सस्ता होने के कारण इसे लोगों द्वारा अपनी प्रार्थना और उपवास के मौसम में खाया जा सकता है। खिचड़ी (Khichdi) का इतना लोकप्रिय होना भी स्वभाविक नहीं बल्कि भारत के हर कोने में इसको पसंद करना और सेहत (health) के लिए भी बहुत फायदेमंद है।

अभी भी, खिचड़ी मधुमेह और लैक्टोज असहिष्णुता के रोगियों द्वारा खाया जा सकता है। अपनी लोकप्रियता के कारण, खिचड़ी को राष्ट्रीय एकता और विविधता का प्रतीक माना जाता है। इन मूल्यों के साथ, भोजन की लोकप्रियता भारत में सबसे लोकप्रिय व्यंजनों में सबसे ऊपर है।

बिरयानी, जो भारत में भी लोकप्रिय है, इसमें फारसी स्पर्श है। इसलिए यह मूल रूप से भारतीय नहीं है। बंगाली अपने धार्मिक त्योहारों में देवी दुर्गा को खिचड़ी चढ़ाते हैं। इससे पता चलता है कि ये भोजन लोगों के लिए धार्मिक रूप से कितना महत्वपूर्ण है।

Also read:

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने जाना की Bharat Ka Rashtriya Bhojan Kya Hai? उम्मीद है इस लेख को पढने के बाद आप जान गए होंगे कि हमारे देश भारत का खिचड़ी राष्ट्रीय भोजन है। यदि आपके मन में इस लेख से संबंधित कोई सवाल है तो आप हमसे कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट कर के पूछ सकते हैं।

FAQ

खिचड़ी भारत का राष्ट्रीय भोजन है?

2017 में, भारतीय मीडिया ने अनौपचारिक रूप से इसे “राष्ट्रीय व्यंजन” के रूप में नामित किया, क्योंकि इसे भारत सरकार द्वारा “सभी खाद्य पदार्थों की रानी” के रूप में विश्व स्तर पर प्रचारित किया जा रहा है।

भारत का राष्ट्रीय भोजन पहले क्या है?

खिचड़ी को भारत का राष्ट्रीय भोजन क्यों घोषित किया गया? दाल और चावल को मिलाकर एक स्वादिष्ट भोजन तैयार किया जाता है, जिसे हम खिचड़ी कहते हैं। भारत के उत्तर में मकर संक्रांति के त्योहार को खिचड़ी कहा जाता है। इस दिन घरों में खिचड़ी बनाई जाती है और इसे खाने का रिवाज है।

भारत का भोजन क्या है?

भारतीय व्यंजनों के मुख्य खाद्य पदार्थों में बाजरा (बाजरा), चावल, साबुत गेहूं का आटा (आटा), और मसूर (ज्यादातर लाल मसूर), तुअर (कबूतर मटर), उड़द (काले चना) जैसे विभिन्न प्रकार की दालें शामिल हैं। और मूंग (मूंग) । दाल को पूरी तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है, छीलकर- उदाहरण के लिए, धुली मूंग या धूली उड़द- या विभाजित।

Leave a comment